top urdu shayari love & mohabbat and breakup

urdu shayari image

Shayari gives passion in the center of Muslims. If you are searching for the Muhammad Shayari. Shayari is a kind of Urdu poetry that’s written or rendered in the type of couplets. Bashir Badr Shayari covers almost all part of life and he’s got an extremely beautiful means to express his Shayari. So these Hindi shayari on love will let you express your love in a lovely way. These days funny love Hindi shayari becomes high hits from the folks on social networking sites like Whatsapp and Facebook.

Urdu poetry has developed and revolutionized from time to time. This will help those people interested in reading Urdu poetry but aren’t able to read Urdu script. Urdu poetry is regarded as an essential part of Pakistani culture. It is a beautiful form of expression. His classical poetry is still quite common in South Asia and it’s also translated to many different languages. Sad poetry which often conveys the emotions of love has become quite popular with time. Poets are totally free to recite anything they feel like.

urdu shayari mohabbat

बह गया वक्त के सैलाब में रिश्तों का गुरूर,
कितना चाहा था कि अपनों को नहीं छोड़ेंगे,
विश्व जिसे करता प्रणाम सिंहिनी सूर्य की लाली थी
काट पाक बैरी को बांग्लादेश बनाने वाली थी
अटल बिहारी जी जिसको संसद में दुर्गा कहते थे
पूज्य इन्दिरा गाँधी पूरे भारत की उजियाली थी

  सत्तर साल की सारी ग़ज़लें एक इंसान पे वारेंगे
बूढ़े होकर धीमें लहजे में तेरा नाम पुकारेंगे...

जब से चूमा है उसकी आंखों को
अब मैं होंठों से देख सकता हूं
शे'र कहिए तो कुछ अलग कहिए ,
क्या वही ज़ुल्फ़,लब,वही आँखें!!

Hindi Urdu Shayari

मेरा भी दौर आएगा नज़ारा तुम भी देखोगे
ये दुनिया अपने होठों से मेरी तहरीर चूमेगी
वह घबरा के जनाजा देखने बाहर निकल आये,
किसी ने कह दिया मय्यत जवाँ मालूम होती है
Mujkho takleef mai Do ghoont pilakar pani.
Usne fir mere tadapne ka tamasha dekha.
मेरे बगैर गलत पढ़े जाओगे___❤
तुमसे मेरा रिश्ता ज़ेर और ज़बर का है___?
तर्क करने से बात बढ़ जाती ,
मुझको कहना पड़ा सही हो तुम!!

love shayari urdu

कितनी भी नफ़रतों की चला लो तुम आँधियाँ,
मेरा चराग तुमसे बुझाया ना जाएगा.

अब चाहे दरबदर ही फिरे हम तमाम उम्र
काफी है ये के दिल में तुम्हारे कभी रहे

3

ज़रा सी छिपकली से डरने वाली___
"बड़ी आई महोब्बत करने वाली"___

4

उस हँसती तस्वीर को आख़िर क्या मालूम!
उसको देख के कितना रोया जाता है !!

5

हमें पहचानने में देर मत करिए के हम है वो ,
जिसे हर शख़्स अपना कहने से इन्कार करता है !!

sad shayari in urdu

1

ख्याली इश्क़ मत करना कि इस में
बिछड़ने की सहुलत भी नहीं है.

2

जला ये शहर तो सब अपना घर बचा रहे थे
हम उस घड़ी भी चराग़ों के सर बचा रहे थे
Jalaa ye sheher to sab apna ghar bacha rhe the
Hum us ghadi bhi charaghoN ke sar bacha rhe the
बचा के रक्खा उन्हें चारागर की नज़रों से
जो ज़ख़्म आबरू-ए-चारागर बचा रहे थे
Bacha ke rakkha unhe charagar ki nazaroN se
Jo zakhm aabru-e-charagar bacha rhe the

हमें ये मौत तो मंज़ूर थी, वो शर्त नहीं
हमारी जान वो जिस शर्त पर बचा रहे थे
HumeN ye maut to manzoor thi, vo shart nhi
Hamari jaan vo jis shart par bacha rhe the

बचा ही कौन था जो देखता हमें तेरे बाद
कुछ आइने थे ,सो वो भी नज़र बचा रहे थे
Bacha hi kaun tha jo dekhta humeN tere baad
Kuch aaine the, so vo bhi nazar bacha rhe the

सहर हुई तो ज़रूरत नहीं बची उसकी
वो इक चराग़ जिसे रातभर बचा रहे थे
Sahar hui to zaroorat nhi bachi uski
Vo ik charagh jise raat bhar bacha rhe the

3

जो तेरे शहर में आया है फकीरों की तरह,
अपनी बस्ती का सिकंदर भी तो हो सकता है!

4

"हम लाये हैं तूफान से किशती निकाल के.."
इस गीत मे कवि कह रहा है कि
वो बिना हेलमेट और पेपस् के,
पांच चौराहे पार करके आया है।??

5

मै सदके उन राहों के जहां वो चलते होंगे
मै कुर्बान उन आंखो के जो उसे देखती होगी

urdu shayari in hindi

1

चेहरे से अपने ज़ुल्फ़ हटा भी रहा है वो,
और पर्दा अपने रुख़ पे गिरा भी रहा हैं वो!

2

ज़िम्मेदारियों के बोझ से जब कंधा झुकता है..?
तो उम्र का तकाज़ा कहा देखा जाता है...??

3

हादसों की ज़द पे हैं तो मुस्कुराना छोड़ दें
ज़लज़लों के खौ़फ से क्या घर बनाना छोड़ दें

तुमने मेरे घर ना आने की कसम खायी तो है
आंसुओं से भी कहो आंखों में आना छोड़ दें

प्यार के दुश्मन तू कभी प्यार से कहके तो देख
एक तेरा ही दर क्या हम तो ज़माना छोड़ देंबारिशें दीवार धोने की आदी हैं तो क्या
हम इसी डर से तेरा चेहरा बनाना छोड़ दें

4

सैराब कर रहा हैं वो अश्क़ों से अपने होंठ,
और तिशनगी को अपनी छिपा भी रहा है वो!

5

मुझे मुश्किल से समझेगा ज़माना।
बहुत आसान होता जा रहा हूँ।

urdu shayari image

urdu shayari image

234urdu shayari image5urdu shayari image

best urdu shayari

1

रक़्स करना है अपनी मय्यत पे ,
हमको इकदम कमाल करना है !!.

2

अब कोई और मोजिज़ा ढूंडें
तुम तो हैरां न कर सके हमको

3

एक तकलीफ को सौ बार नहीं सह सकते
हम ग़ुलामों की तरह साथ नहीं रह सकते

कहने सुनने से कहीं दर्द भी कम होता है
मेरे आँसू तेरी आँखों से नहीं बह सकते
कोयला बेचने वालों का मुक़्क़दर मत पूछ
रहना चाहें भी तो ये साफ़ नहीं रह सकते

हम से दीवाने ही ये काम किया करते हैं
आप तो एक भी सच बात नहीं कह सकते

ज़िन्दगी आज भी कोमा में पड़ी हो जैसे
अब इसे ज़िंदा या मुर्दा भी नहीं कह सकते

4

इस से बदतर भी देखते क्या हम ,
ख़ुद को बर्बाद होते देखा है !!

5

सारी सड़कें मातम करती रहती हैं
हर बच्चा रस्सी पर चलने वाला है।

romantic shayari in urdu

1

हर इक लड़की से कहियो हुशियार रहे,
हर इक मर्द के अंदर भेड़िया होता है.

2

उसके पाँव तले आ जाना
मिट्टी की ख़्वाहिश होती है

3

समंदर को ढूँढती है नदी जाने क्यों,
पानी को पानी की ये अजीब प्यास है..!!

4

जहाँ पे नींद खड़ी है उसी किनारे पर..
बुला रहा है कोई ख़्वाब, आँख मलता हुआ..

5

जो तुझ को बोलता सुन ले वो नरम हो जाए
जो तुझ को देख ले उस की नजर खराब ना हो ??

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *